Romantic Ghazal Shayari | रोमांटिक गजल

 Romantic Ghazal Shayari

Agar ap Romantic Ghazal Shayari search kar rahe hain to aap sahi post pe land huye hai yaha apko padhne ko milenge behtreen collection Romantic Ghazal Shayari ka wo India or India se bahar jitne bhi mashoor Shayar huye hain. isliy apko ek bar mere is collection ko jharur se checkout karna chahiye apko aisi aisi Ghazal Shayari padhne ko milegi jo apne abhi tak shyad hi kabhi padhi hogi.

रोमांटिक गजल

Romantic Ghazal Shayari


कभी गुंचा कभी शोला कभी #शबनम की तरह,
लोग मिलते हैं बदलते हुए मौसम की तरह,

मेरे महबूब मेरे प्यार को इलज़ाम न दे,
हिज्र में ईद मनाई है मुहर्रम की तरह,

मैंने खुशबू की तरह तुझको किया है महसूस,
दिल ने #छेड़ा है तेरी #याद को #शबनम की तरह,

कैसे हमदर्द हो तुम कैसी मसीहाई है,
दिल पे छूरी भी लगाते हो तो मरहम की तरह
-Jagjit Singh-

kabhee guncha kabhee shola kabhee shabanam kee tarah,
log milate hain badalate hue mausam kee tarah,

mere mahaboob mere pyaar ko ilazaam na de,
hijr mein eed manaee hai muharram kee tarah,

mainne khushaboo kee tarah tujhako kiya hai mahasoos,
Dil ne #chhera hai teri yad ko shabanam ki tareh,

kaise hamadard ho tum kaisee maseehaee hai,
dil pe nashtar bhee lagaate ho to maraham kee tarah
-Jagjit Singh-

यह भी पढ़ें

तेरा चेहरा कितना सुहाना लगता है,
तेरे आगे चाँद पुराना लगता है,

तिरछे तिरछे तीर नज़र के लगते हैं,
सीधा सीधा दिल पे निशाना लगता है,

आग का क्या है पल दो पल में लगती है,
बुझते बुझते एक ज़माना लगता है,

सच तो ये है फूल का दिल भी छलनी है,
हँसता चेहरा एक बहाना लगता है..!
-कैफ़ भोपाली-

tera chehara kitana suhaana lagata hai,
tere aage chaand puraana lagata hai,

tirachhe tirachhe teer nazar ke lagate hain,
seedha seedha dil pe nishaana lagata hai,

aag ka kya hai pal do pal mein lagatee hai,
bujhate bujhate ek zamaana lagata hai,

sach to ye hai phool ka dil bhee chhalanee hai,
hansata chehara ek bahaana lagata hai..!
Kaif Bhompali

Jagajit Singh Ghazal


काँटों से दामन उलझाना मेरी आदत है,
दिल मे पराया दर्द बसाना मेरी आदत है,

मेरा गला गर कट जाए तो तुझ पर क्या इल्ज़ाम,
हर क़ातिल को गले लगाना मेरी आदत है,

जिन को दुनिया ने ठुकराया जिन से हैं सब दूर,
ऐसे लोगों को अपनाना मेरी आदत है,

सब की बातें सुन लेता हूँ मैं चुपचाप मगर,
अपने दिल की करते जाना मेरी आदत है..!
Jagjit Singh

kaanton se daaman ulajhaana meree aadat hai,
dil me paraaya dard basaana meree aadat hai,

mera gala gar kat jae to tujh par kya ilzaam,
har qaatil ko gale lagaana meree aadat hai,

jin ko duniya ne thukaraaya jin se hain sab door,
aise logon ko apanaana meree aadat hai,

sab kee baaten sun leta hoon main chupachaap magar,
apane dil kee karate jaana meree aadat hai,
Jagjit Singh

Sambhaliy Ghazal


दिन आ गए शबाब के आँचल संभालिये,
होने लगी है शहर में हलचल संभालिये,

चलिए संभल संभल के कठिन राह-ऐ-इश्क़ है,
नाज़ुक बड़ी है आपकी पायल संभालिये,

सज धज के आप निकले सर-ए-राह ख़ैर हो,
टकरा न जाए आपका पागल संभालिये,

घर से ना जाओ दूर किसी अजनबी के साथ,
बरसेंगे जोर-शोर से बादल संभालिये,
मदन पाल

din aa gae shabaab ke aanchal sambhaliye,
hone lagee hai shahar mein halachal sambhaliye,

chalie sambhal sambhal ke kathin raah-ai-ishq hai,
naazuk badee hai aapakee paayal sambhaliye,

saj dhaj ke aap nikale sar-e-raah khair ho,
takara na jae aapaka paagal sambhaliye,

ghar se na jao door kisee ajanabee ke saath,
barasenge jor-shor se baadal sambhaliye,
Madan Pal



मायूस तो हूं वायदे से तेरे, कुछ आस नहीं कुछ आस भी है,
मैं अपने ख़यालों के #सदके, तू पास नहीं और पास भी है..!

दिल ने तो खुशी माँगी थी मगर, जो तूने दिया अच्छा ही दिया,
जिस गम को तअल्लुक हो तुझसे, वह रास नहीं और रास भी है..!

पलकों पे *लरजते अश्कों में *तसवीर झलकती है तेरी,
दीदार की *प्यासी आँखों को, अब प्यास नहीं और *प्यास भी है...!
Sahir Ludhianvi


Mayus to hun Wayade se tere, kuchh aass nahin kuchh aass bhi hai,
main apane khyaalon ke sadake, too paas nahin aur paas bhee hai..!

dil ne to khushee maangee thee magar, jo toone diya achchha hee diya,
jis gam ko taalluk ho tujhase, vah raas nahin aur raas bhee hai..!

palakon pe larajate ashkon mein tasaveer jhalakatee hai teree,
deedaar kee pyaasee aankhon ko, ab pyaas nahin aur pyaas bhee hai..!
Sahir Ludhianvi



अबके बरस भी वो नहीं आये बहार में,
गुज़रेगा और एक बरस इंतज़ार में,

ये आग इश्क़ की है बुझाने से क्या बुझे,
दिल तेरे बस में है ना मेरे इख़्तियार में,

है टूटे दिल में तेरी मुहब्बत, तेरा ख़याल,
कुछ रंग है बहार के उजड़ी बहार में,

आँसू नहीं हैं आँख में लेकिन तेरे बग़ैर,
तूफ़ान छुपे हुए हैं दिल-ए-बेक़रार में..!
-पयाम सईदी

abake baras bhee vo nahin aaye bahaar mein,
guzarega aur ek baras intazaar mein,

ye aag ishq kee hai bujhaane se kya bujhe,
dil tere bas mein hai na mere ikhtiyaar mein,

hai toote dil mein teree muhabbat, tera khayaal,
kuchh rang hai bahaar ke ujadee bahaar mein,

aansoo nahin hain aankh mein lekin tere bagair,
toofaan chhupe hue hain dil-e-beqaraar mein.!
Payam Saeedi



प्यार मुहब्बत आशिकी ये बस अल्फाज थे,
मगर जब से तुम मिले इन अल्फाजो को मायने मिले!!
pyaar muhabbat aashikee ye bas alphaaj the,
magar jab se tum mile in alphaajo ko maayane mile!!



तुम्हारे सब चाहने वाले मिलकर भी उतना नहीं चाह सकते,
जितनी मुहब्बत मैं अकेले करता हूँ तुम से!!
tumhaare sab chaahane vaale milakar bhee utana nahin chaah sakate,
jitanee muhabbat main akele karata hoon tum se!



तेरी वफ़ा चाहिए इस ज़िन्दगी के लिए
तेरी हँसी ज़रूरी है मेरी ख़ुशी के लिए
Teri Wafa Chahiye Is Zindagi Ke Liye
Teri Hansi Zaruri Hai Meri Khushi Ke Liye



मोहब्बत का कोई रंग ही नहीं है, फिर भी वो रंगीन है,
प्यार का कोई चेहरा नहीं, फिर भी वो हसीन है..!!
mohabbat ka koee rang hee nahin hai, phir bhee vo rangeen hai,
pyaar ka koee chehara nahin, phir bhee vo haseen hai..!!


I hope you enjoyed the collection of Romantic Ghazal Shayari | रोमांटिक गजल also hoping that you will leave your valuable comment in the comment box and your one share will make my day, Thanks.

0 Comments: