Tareef Shayari | Shayari On Beauty

 Tareef Shayari | Shayari On Beauty

ये बहुत ही अलग अहसास होता है प्यार के सुरवाती दौर में, अपने प्यार की तारीफ में कोई सही शब्द नहीं मिल पाते। जब भी अपने प्यार से मिलना होता है तो उसकी तारीफ में कुछ कहने का मन होता है पर शब्द को चुआव करना बड़ा मुश्किल काम हो जाता है। तो ऐसे में सबसे पहला ख्याल एक अच्छी शायरी का आता है। अगर आप भी इसी स्टेज पर हैं तब आपको आज के क्लेक्शन Tareef Shayari की बहुत ज़रूरत पड़ने वाली है।  और उम्मीद यही रहेगी की आपको Tareef Shayari का ये कलेक्शन पसंद आएगा।  मेरी आपके दिल छूने की कोसिस कामयाब हो पायेगी। आप अपने हिसाब से अपनी पसंद की लाइन कॉपी कर के उपयोग कर सकते हैं। धन्यवाद.

Ankho ki Tareef Shayari


तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो ,
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है ..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

tumhaaree aankhon kee tauheen hai zara socho ,
tumhaara chaahane vaala sharaab peeta hai ..!


डूबकर तेरी झील सी गहरी आँखों में,
एक मयकश भी शायद पीना भूल जाए..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

doobakar teree jheel see gaharee aankhon mein,
ek mayakash bhee shaayad peena bhool jae..!



दिल में समा गयी हैं कयामत की शोखियाँ,
दो चार दिन रहा था किसी की निगाह में। 

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

dil mein sama gayee hain kayaamat kee shokhiyaan,
do chaar din raha tha kisee kee nigaah mein।


Shayari On Beauty, Tareef Shayari


उस के चेहरे की चमक के सामने सादा लगा ,
आसमाँ पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा ..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

us ke chehare kee chamak ke saamane saada laga ,
aasamaan pe chaand poora tha magar aadha laga ..!

ये शायरियां भी आपको पसंद आएंगी


नींद से क्या शिकायत करूं जो रात भर नहीं आती,
कसूर तो सनम के चेहरे का है जो रात भर याद आता है..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

neend se kya shikaayat karoon jo raat bhar nahin aatee,
kasoor to sanam ke chehare ka hai jo raat bhar yaad aata hai..!



चांद रोज़ छत पर आकर इतराता बहुत था,
कल रात मैंने भी उसे तेरी तस्वीर दिखा दी..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

chaand roz chhat par aakar itaraata bahut tha,
kal raat mainne bhee use teree tasveer dikha dee..!



ऐसा ना हो तू खुद को चाहने लगे,
तनहाई में तू अपनी तस्वीर ना देखा कर..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

aisa na ho too khud ko chaahane lage,
tanahaee mein too apanee tasveer na dekha kar..!



तेरी सूरत से किसी की नहीं मिलती सूरत,
हम जहाँ में तिरी तस्वीर लिए फिरते हैं..! 

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

teree soorat se kisee kee nahin milatee soorat,
ham jahaan mein tiree tasveer lie phirate hain..! 



तेरी तारीफ में कुछ लफ़ज कम पड़ गए,
वरना हम भी किसी ग़ालिब से कम नहीं।

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

teree taareeph mein kuchh lafaj kam pad gae,
varana ham bhee kisee gaalib se kam nahin.

Click here to more awesome

Tareef Shayari For Girlfriend


ए सनम तुझमें इतनी नजाकत कहां से आ गई,
कहीं तू शायर का कोई दर्द तो नहीं..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

A sanam tujhamen itanee najaakat kahaan se aa gaee,
kaheen too shaayar ka koee dard to nahin..!


Tareef Shayari on Lips


नाज़ुक उसके लबों की क्या कहिये,
पंखुड़ी इक गुलाब की सी है।

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

naazuk usake labon kee kya kahiye,
pankhudee ik gulaab kee see hai.



कौन सी जा है जहाँ जल्वा-ए-माशूक़ नहीं,
शौक़-ए-दीदार अगर है तो नज़र पैदा कर ..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

kaun see ja hai jahaan jalva-e-maashooq nahin,
shauq-e-deedaar agar hai to nazar paida kar ..!



तराशा है खुदा ने उनको बस ये सोच कर
कोई बच ना पाए इनका हुस्न देखकर
बच भी गया तो मर जाएगा
घटाओं जैसी जुल्फ देखकर
उसकी आंखों से क्या कोई बच पाएगा
जो छोड़ते हैं तीर सनम देख कर

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

taraasha hai khuda ne unako bas ye soch kar
koee bach na pae inaka husn dekhakar
bach bhee gaya to mar jaega
ghataon jaisee julph dekhakar
usakee aankhon se kya koee bach paega
jo chhodate hain teer sanam dekh kar



तुझको सजने सवरने की जरुरत ही क्या है,
तुझपे सजती है हया भी किसी जेवर की तरह।

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

tujhako sajane savarane kee jarurat hee kya hai,
tujhape sajatee hai haya bhee kisee jevar kee tarah.


Husn Shayri, Tareef Shayari


उनके हुस्न की क्या तारीफ करूं,
खुद तस्वीर हो गया हूं उनकी तस्वीर देखकर..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

unake husn kee kya taareeph karoon,
khud tasveer ho gaya hoon unakee tasveer dekhakar..!



मुझको मालूम नहीं हुस्न की तारीफ फ़राज़,
मेरी नज़रों में हसीन वो है जो तुझ जैसा हो |

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

Mujhko maaloom nahin husn kee taareeph faraaz,
Meree nazaron mein haseen vo hai jo tujh jaisa ho.



दुनिया में तेरा हुस्न मेरी जां सलामत रहे,
सदियों तलक जमीं पे तेरी कयामत रहे..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

Duniya mein tera husn meree jaan salaamat rahe,
sadiyon talak jameen pe teree kayaamat rahe..!



जब मैंने चाँद को अपना चाँद दिखाया,
रात में निकला पर हुस्न पर नहीं इतराया..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

jab mainne chaand ko apana chaand dikhaaya,
raat mein nikala par husn par nahin itaraaya..!



तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत ही क्या है,
कौन होश में रहता है तुझे देखने के बाद||

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

Tere husn ko parade kee zarurat hee kya hai,
Kaun hosh mein rahta hai tujhe dekhne ke baad..!


Husn Tareef Shayari


हुस्न की मल्लिका हो या साँवली सी सूरत,
इश्क़ अगर रूह से हो तो हर चेहरा कमाल लगता है..!

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

husn kee mallika ho ya saanvalee see soorat,
ishq agar rooh se ho to har chehara kamaal lagata hai..!



बिकता है गम हुस्न के बाज़ार में,
लाखों दर्द छुपे होते हैं एक छोटे से इंकार में,
वो क्या समझेंगे प्यार की कशिश को,
जिन्होंने फर्क ही नहीं समझा पसंद और प्यार में||

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

Bikta hai gam husn ke baazaar mein,
Lakhon dard chhupe hote hain ek chhote se inkaar mein,
Vo kya samajhenge pyaar kee kashish ko,
Jinhonne fark hee nahin samajha pasand aur pyaar mein.




ये आईने ना दे सकेंगे तुझे तेरे हुस्न की खबर,
कभी मेरी आँखों से आकर पूछो,
की तुम कितनी हसीन हों||

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

Ye aaeene na de sakenge tujhe tere husn kee khabar,
Kabhee meree aankhon se aakar poochho,
Kee tum kitanee haseen hon.



सोचता हूँ हर कागज पे तेरी तारीफ करूँ,
फिर खयाल आया कही पढ़ने वाला तेरा दीवाना ना हो जाए||

Tareef Shayari | Shayari On Beauty
Sochata hoon har kaagaj pe,
Teree taareef karoon,
Phir khayaal aaya kahee padhne vaala,
Tera deevaana na ho jaye.



तेरे हुस्न पर तारीफ भरी किताब लिख देता,
काश के तेरी वफ़ा तेरे हुस्न के बराबर होती||

Tareef Shayari | Shayari On Beauty

Tere husn par taareef bharee kitaab likh deta,
Kaash ke teree vafa tere husn ke baraabar hotee.


उम्मीद करता हूँ आपको ये शायरियां पसंद आयी होंगी। अगर दिल छु गई हों तो दोस्तों के साथ शेयर कर के हमे कमेंट में बताएं अपनी पसंदीदा शायरी के बारे में ताकि हम अपनी अगली पोस्ट में उसी टाइप की शायरी आपके लिए लेके आएं धन्यवाद मजे से अपनी ग्रिलफ्रेंड की तरीफ कीजिये Tareef Shayari.

0 Comments: